होम / कैटेगरी : सलीम

हर शाम चिरागों से सजा...

हर शाम चिरागों से सजा रखी है,
अफ़सोस ये है की शर्त हवाओं से लगा रखी है,
न जाने किस गली से आ जाए हमारी महरूबा,
इस लिए हर गली फूलों से सजा रखी है ||

har_shaam_chiragon.jpg

© 2020-2021 sad-shayari | संपर्क करें
Best Sad Shayari in hindi | Facebook Status and Love Sad Shayari in Hindi